FSh test hindi me

FSH Test in Hindi / FSH टेस्ट की पूरी जानकारी हिंदी में।

FSH Test in Hindi /FSH टेस्ट की पूरी जानकारी हिंदी में।

FSH/ फोलिकल – स्टिमुलेटिंग हार्मोन  स्तर परीक्षण क्या है? / What is a Follicle stimulating hormone?

FSH Test फोलिकल – स्टिमुलेटिंग हार्मोन (एफएसएच) प्रजनन प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह ovarian follicle के विकास के लिए जिम्मेदार है। फॉलिकल्स अंडाशय में एस्ट्रोजन(Estrogen) और प्रोजेस्टेरोन (Progesterone) का उत्पादन करते हैं और महिलाओं में मासिक धर्म चक्र (Menstrual Cycles) को बनाए रखने में मदद करते हैं। पुरुषों में, FSH गोनैड्स के विकास के साथ-साथ शुक्राणु उत्पादन का भी एक हिस्सा है।

एफएसएच परीक्षण के द्वारा आपके रक्त में पाए जाने वाले एफएसएच (FSH) के स्तर को मापा जा सकता है। आपका डॉक्टर प्रजनन प्रणाली (Reproductive System) को प्रभावित करने वाले लक्षणों के वजह को जानने के लिए एफएसएच (FSH) टेस्ट कराने का आदेश देगा।

 

FSH स्तर परीक्षण का उद्देश्य / Purpose of FSH test

FSH टेस्ट एक साधारण ब्लड परीक्षण (Blood Test) है। महिलाओं को यह टेस्ट उनके मासिक धर्म चक्र (Menstrual Cycle) में एक विशिष्ट समय पर करने के लिए कहा जा सकता है, आमतौर पर पहले कुछ दिन।

महिलाओं के लिए FSH टेस्ट

महिलाओं में, FSH टेस्ट कराने का आदेश निम्न कारणों में दिया जा सकता जिनमे शामिल हैं:

  • बांझपनकी समस्याओं का पता करना
  • अनियमितमासिक चक्र का आकलन करना
  • पिट्यूटरीग्रंथि (Pituitary Gland) के विकारों का निदान करना या अंडाशय से जुड़े रोग

 

पुरुषों के लिए FSH टेस्ट

पुरुषों में, एफएसएच परीक्षण किया जा सकता है:

  • कम शुक्राणुओं (Sperms) की संख्या का जाँच करने के लिए
  • हाइपोगोनाडिज्म(Hypothyroidism) या जनन विफलता (Gonadal Failure) का आकलन करने के लिए
  • वृषणरोग (Testicular Dysfunction) का आकलन के लिए

 

बच्चों के लिए एफएसएच टेस्ट / FSH test for children

एक एफएसएच परीक्षण का उपयोग यह निर्धारित करने के लिए किया जा सकता है कि क्या बच्चा पूर्व यौवन का अनुभव कर रहा है, जिसे प्रारंभिक यौवन (Early Puberty) कहा जाता  है। एक एफएसएच परीक्षण का उपयोग यह निर्धारित करने के लिए भी किया जा सकता है कि क्या बच्चा विलंबित यौवन (Delayed Puberty) का अनुभव कर रहा है या नहीं| यह तब होता है जब यौन विशेषताएं (Sexual characteristics) या शरीर के अंग तब विकसित नहीं होते हैं जब उन्हें होना चाहिए।

 

FSH Test टेस्ट कराने से पहले आपके डॉक्टर को क्या पता होना चाहिए? / What should your doctor know before conducting the test?

आपको अपने डॉक्टर को किसी भी और डॉक्टर के द्वारा ले रहे दवाओं (Medicines), आहार की खुराक, और विटामिन के बारे में बताना चाहिए जो आप किसी भी मेडिकल टेस्ट से पहले ले रहे हैं। आपको अपने चिकित्सक (Doctor) को आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले किसी भी प्रकार के जन्म नियंत्रण (Birth Control) के बारे में भी बताना चाहिए, जैसे कि गोली (Medicines), एक अंतर्गर्भाशयी उपकरण (Intrauterine device), या पैच, क्योंकि यह आपके टेस्ट के परिणामों में अहम्  हिस्सा निभा सकता है।

आपको अपने डॉक्टर को खुद में मौजूदा किसी भी बिमारी (Disease) या विकार के बारे में बताना चाहिए, जैसे कि निम्नलिखित:-

  • अनियंत्रितथायराइड रोग
  • सेक्सपर निर्भर हार्मोन ट्यूमर
  • अंडाशयअल्सर (Ovarian Cysts)
  • असामान्ययोनि से खून बहना (Vaginal Bleeding)

ये स्थितियां एफएसएच (FSH) स्तरों से जुड़ी हो सकती हैं।

 

एफएसएच टेस्ट के दौरान क्या होता है? / What happen during the FSH test?

एफएसएच (FSH) टेस्ट के परिक्षण के दौरान इसमें आपके खून का नमूना (Blood sample) लिया जाता है उसके बाद उस नमूने को FSH टेस्ट की जाँच के लिए लैब (Laboratory) में भेजा जाता है|

FSH स्तर के लिए परीक्षण करना बहुत ही आसान है और इसमें निम्नलिखित चरण शामिल हैं:-

  1. एक लेबोरेटरी तकनीशियन (Lab Technician) आपके खून का नमूना लेने किए उस साइट के ऊपर एक टूर्निकेट बांध देगा जहां से उस रक्त लें होगा। रक्त आमतौर पर हाथ से लिया जाता है।
  2. वे साइट को एंटीसेप्टिक (Antiseptic) से साफ और निष्फल करेंगे और सीधे आपकी नस में एक सुई (Injection) की सहायता से रक्त लेगा |
  3. वे कुछ मिनटों के भीतर सुई (Injection) निकाल देंगे और फिर आपको छोटे कपड़े के साथ उस जगह पर दबाव लगाने के लिए कहेंगे।
  4. रक्त का नमूना (Blood Sample) लेने के बाद वह उस जगह पर पट्टी या बैंडेज (Bandage) लगा सकते है।
  5. रक्त का नमूना (Blood Sample) लेने के बाद ज्यादातर लोगों को शुरू में तेज दर्द के कुछ क्षण महसूस होते हैं, लेकिन यह जल्दी से दर्द काम हो जाता है

 

परिणामों को समझना / Understanding Your Results

FSH का स्तर लिंग (Gender) और उम्र (Age) के आधार पर अलग-अलग हो सकता है। और महिलाओ में एफएसएच टेस्ट का परिणाम उनके मासिक धर्म (Menstrual Cycle) के दिन के अनुसार भी अलग हो सकते है। प्रत्येक प्रयोगशाला में थोड़ी अलग संदर्भ सीमा होती है। आपको अपने परिणामों (Results) की चर्चा अपने डॉक्टर से करनी चाहिए।

 

उच्च एफएसएच स्तर / High FSH level

महिलाओं में उच्च एफएसएच स्तर  / High FSH Levels in Women

यदि आपमें FSH का स्तर ऊँचा (High)हैं, तो यह संकेत कर सकता है:-

  • ओवेरियनप्रक्रिया (Ovarian Function) की हानि
  • Ovarian विफलताका नुकसान (Ovarian failure)
  • रजोनिवृत्ति(Menopause)
  • पॉलीसिस्टिकओवेरियन सिंड्रोम

पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (Poly-cystic ovarian syndrome) एक ऐसी स्थिति है जिसमें एक महिला के हार्मोन का लेवल  संतुलन से बाहर होता जाता  हैं, जिससे ओवेरियन अल्सर (Ovarian Ulcers) भी  हो सकता  है

गुणसूत्र संबंधी असामान्यता (chromosomal abnormality), जैसे टर्नर का सिंड्रोम जो तब होता है जब महिला के एक्स क्रोमोजोम में से एक का हिस्सा या सभी गायब होता है

एफएसएच के लेवल मे वृद्धि भी अच्छी गुणवत्ता वाले अंडे और भ्रूण (Fetus) के उत्पादन (Production) में कमी का संकेत दे सकती है। इसका एक सामान्य कारण आपकी उम्र भी हो सकती है। आपकी उम्र (Age) के बढ़ने के साथ साथ आपकी फर्टिलिटी भी कम होने लगती है

FSH परीक्षण का उपयोग अन्य परीक्षणों के साथ भी किया जा सकता है जो एक महिला की प्रेगनेंसी  का निर्धारण करने के लिए ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन ( luteinizing hormone), एस्ट्राडियोल (Estradiol) और प्रोजेस्टेरोन (Progesterone) के स्तर को देखते हैं। “डिम्बग्रंथि रिजर्व” (Ovarian Reserve) शब्द एक महिला की उम्र से संबंधित प्रजनन क्षमता को दर्शाता है। एक उच्च FSH स्तर का मतलब है कि आपकी गर्भवती होने की संभावना आपकी उम्र Age की अपेक्षा कम हो सकती है। इसका मतलब यह नहीं है कि आपके पास गर्भधारण (Pregnancy) करने का कोई मौका नहीं है, लेकिन आपको अधिक कठिनाई हो सकती है और बांझपन (Infertility) उपचार की भी आवश्यकता हो सकती है ।

 

पुरुषों में उच्च एफएसएच स्तर / High FSH Levels in Men

यदि आपमें FSH का स्तर उच्च (High) हैं, तो यह संकेत कर सकता है:

  • क्लाइनफेल्टरसिंड्रोम (Klinefelter’s syndrome), जो पुरुषों में एक अतिरिक्त एक्स गुणसूत्र के कारण होने वाली एक दुर्लभ स्थिति है जो परुषो में शुक्राणु के विकास को प्रभावित कर सकती है

 

बच्चों में उच्च एफएसएच स्तर / High FSH Levels in Children

  • बच्चोंमें उच्च एफएसएच स्तर का मतलब हो सकता है कि यौवन (Puberty) शुरू होने वाला है।

 

कम एफएसएच स्तर / Low FSH Levels

FSH स्तर का मान कम होना यह संकेत दे सकते हैं कि:

  • एक महिला अंडे का उत्पादन (Producing Eggs) नहीं कर रही है
  • पुरुषो में शुक्राणु (Sperms) पैदा नहीं हो रहा है
  • हाइपोथेलेमस (hypothalamus ) या पिट्यूटरी ग्रंथि (pituitary gland), जो मस्तिष्क में हार्मोन नियंत्रण केंद्र हैं, ठीक से काम नहीं कर रहे हैं
  • तनाव और गंभीर रूप से कम वजनFSH मूल्यों को प्रभावित कर सकता है।

 

FSH टेस्ट के साथ-साथ आपका डॉक्टर कौन सा परीक्षण कर सकता है / what tests your doctor can recommend along with FSH test?

आपका डॉक्टर FSH परिक्षण के साथ-साथ आपके कुछ अन्य हार्मोन के स्तर की भी जाँच कर सकता है, जिसमें शामिल हैं:

  • ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (Luteinizing hormone)
  • टेस्टोस्टेरोन (Testosterone)
  • एस्ट्रोजेन (Estrogen)

LH टेस्ट की पूरी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें। 

Leave a Comment